0

Sharabi Sad Shayari | इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ

Sharabi Sad Shayari

Sharabi Sad Shayari

इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ,

सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,

जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश,

मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ!!!

 

Itni Pita Hu Ki Madhosh Rhta Hu,

Sab Kuchh Samjhta Hu Par Khamosh Rhta Hu,

Jo Log Karte Hai Mujhe Girane Ki Koshish,

Main Aksar Unhi Ke Saath Rahta Hu!!!




*** Sharabi Sad Shayari In Hindi ***

इश्क-ए-बेवफ़ाई  ने डाल दी है आदत बुरी,

मैं भी शरीफ़ हुआ करता था इस ज़माने में,

पहले दिन शुरू करता था मस्ज़िद में नमाज़ से,

अब ढलती है शाम शराब के साथ मयखाने में!!!

 

Ishq-A-Bewafai Ne Daal Di Hai Aadat Buri,

Main Bhi Sharif Hua Karta Tha Is Zamane Me,

Pehle Din Shuru Karta Tha Masjid Mein Namaaz Se,

Ab Dhalti Hai Shaam Sharab Ke Sath Mehkhane Me!!!



Share With Friends:

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *