0

New Bewafa Shayari Hindi Me | कम्बख़्त इश्क में क्या गिरे

New Bewafa Shayari Hindi Me

 

औकात नहीं थी ज़माने में जो मेरी कीमत लगा सके,

कम्बख़्त इश्क में क्या गिरे, मुफ्त में नीलाम हो गये।”

 

उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है,

जो ज़िन्दा हों तो फिर ज़िन्दा नज़र आना ज़रूरी है।”

Continue Reading

Share With Friends:
0

Dard Bhari Shayari | Sad Shayari In Hindi | तेरी जुदाई ने मुझे

Dard Bhari Shayari

 

तेरी जुदाई ने मुझे इश्क का मतलब समझा दिया,

तलब तो तेरी पहले भी थी,

पर दर्द के इस आलम ने,

तेरे दिल मे होने का यकीन दिला दिया…

Continue Reading

Share With Friends: