174+ Mirza Ghalib Shayari In Hindi – ग़ालिब लव, रोमांटिक शायरी

Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

mirza galib shayari in hindi font
mirza galib shayari in hindi font

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन।
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब‘ ये ख्याल अच्छा है।।
Hamko Malum Hai Zannat Ki Haqiqat Lekin,
Dil Ke Khush Rakhane Ke “Galib” Ye Khyaal Achchha Hai.


ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते,
कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर।
Zindagi Se Hum Apni Kuch Udhar Nahi Lete,
Kafan Bhi Lete Hai To Apni Zindgi Dekar.


hindi shayari by mirza galib
hindi shayari by mirza galib

उनके देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़,
वो समझते है कि बीमार का हाल अच्छा है।
Un Ke Dekhe Se Jo Aa Jati Hai Munh Pe Raunak – Galib
Wo Samjhate Hai Ki Bimaar Ka Hal Achchha Hai.


हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले॥
Hazaron Khwahishein Aisi Ki Har Khwahish Pe Dam Nikle,
Bahut Nikle Mere Armaan Lekin Fir Bhi Kam Nikle.


Mirza Ghalib Romantic Shayari

Mirza Ghalib Romantic Shayari
Mirza Ghalib Romantic Shayari

हम तो फना हो गए उसकी आंखे देखकर – गालिब,
न जाने वो आइना कैसे देखते होंगे।
Hum To Fana Ho Gaye Uski Aankhein Dekhkar – Ghalib,
Naa Jane Wo Aaina Kaise Dekhte Honge.


हम जो सबका दिल रखते है
सुनो, हम भी एक दिल रखते है
Hum Jo Sabka Dil Rkhte Hai,
Suno Hum Bhi Ek Dil Rakhte Hai.


हम भी दुश्मन तो नहीं है अपने
ग़ैर को तुझसे मोहब्बत ही सही
Hum Bhi Dushman To Nahi Hai Apne,
Gair Ko Tujh Se Mohabbat Hi Sahi.


Mirza Ghalib Love Shayari

Mirza Ghalib Love Shayari
Mirza Ghalib Love Shayari

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब‘।
कि लगायेलगे और बुझाये न बुझे।।
Ishq Par Jor Nahi Hain Ye Aatish “Galib“,
Ki Lagaaye Naa Lageaur Bujhaye Na Bujhe.


वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत है।
कभी हम उनको, कभी अपने घर को देखते है।।
Wo Aaye Ghar Me Hamare, Khuda Ki Kudarat Hai,
Kabhi Ham Unako Kabhi Apane Ghar Ko Dekhate Hai.


हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब
नसीब उनके भी होते है जिनके हाथ नहीं होते।।
Hatho Ki Lakiron Pe Mat Ja E “Galib“,
Nasib Unake Bhi Hote Hai, Jinake Hath Nahi Hote.


हमारे शहर में गर्मी का यह आलम है ग़ालिब
कपड़ा धोते ही सूख जाता है
पहनते ही भीग जाता है
Humare Shahar Me Garmi Ka Yah Aalam Hai Ghalib,
Kapda Dhote Hi Sookh Jata Hai
Pahnate Hi Bheeg Jata Hai.


आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।
Aah Ko Chahiye Ek Umar Asar Hote Tak,
Kaun Jeeta Hai Teri Julf Ke Sar Hote Tak.


Mirza Ghalib Ki Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Ki Shayari In Hindi
Mirza Ghalib Ki Shayari In Hindi

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहे जिसे,
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझसा कहे जिसे।
Aaina Kyun Naa Du Ki Tamasha Kahe Jise,
Aisa Kahan Se Laaun Ki Tujhsa Kahe Jise,


बस कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना।
Bus Ki Dushwar Hai Har Kaam Ka Aasan Hona,
Aadmi Ko Bhi Mayassar Nahi Insaan Hona.


की वफ़ा हमसे, तो गैर उसको जफ़ा कहते है
होती आई है, कि अच्छो को बुरा कहते है
Ki Wafa Humse, To Gair Usko Zafaa Kahte Hai
Hoti Aai Hai, Ki Achchho Ko Bura Kahte Hai.


कोई उम्मीद बार नहीं आती।
कोई सूरत नज़र नहीं आती।
Koi Umeed Bar Nahi Aati,
Koi Soort Nazar Nahi Aati.


मौत का एक दिन मुअय्यन है।
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती।
Maut Ka Ek Din Muayan Hai,
Neend Kyu Raat Bhar Nahi Aati


उम्रभर देखा किये, मरने की राह
मर गये पर, देखिये, दिखलाएँ क्या।
UmrBhar Dekha Kiye Marne Ki Raah
Mar Gaye Par Dekhiye Dikhlaye Kya.


Mirza Ghalib Sad Shayari

Mirza Ghalib Sad Shayari
Mirza Ghalib Sad Shayari

जब लगा था तीर तब इतना दर्द न हुआ ग़ालिब
ज़ख्म का एहसास तब हुआ
जब कमान देखी अपनों के हाथ में।
Jab Laga Tha Teer Tab Itna Dard Naa Hua Ghalib,
Zakhm Ka Ehsaas Tab Hua
Jab Kamaan Dekhi Apno Ke Hath Me.


यही है आज़माना तो सताना किसको कहते है।
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो।।
Yahi Hai Aazamana To Satana Kisko Kahate Hai,
Adu Ke Ho Liye Jab Tum To Mera Imtehaan Kyu Ho.


जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा।
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है।।
Jula Hai Zism Janha Dil Bhi Jal Gaya Hoga,
Kudarate Ho Jo Ab Raakh Justaju Kya Hai


इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया।
वर्ना हम भी आदमी थे काम के।।
Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya,
Warna Ham Bhi  Aadami The Kaam Ke.


Mirza Ghalib 2 Line Shayari

Mirza Ghalib 2 Line Shayari
Mirza Ghalib 2 Line Shayari

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना
Ishrat-Ae-Katra Hai Dariya Me Fana Hi Jana,
Dard Ka Hadd Se Guzrna Hai Dawa Ho Jana.


तुम ना आए तो क्या सहर ना हुई, हाँ मगर चैन से बसर ना हुई।
मेरा नाला सुना ज़माने ने, एक तुम हो जिसे ख़बर ना हुई।।
Tum Na Aaye To Kya Sahar Na Huyi, Han Magar Chain Se Basar Na Huyi,
Mera Nala Suna Zamane Ne, Ek Tum Ho Jise Khabar Na Huyi.


खैरात में मिली ख़ुशी मुझे अच्छी नहीं लगती ग़ालिब,
मैं अपने दुखों में रहता हूँ नवाबों की तरह।
Khairat Me Mili Khushi Mujhe Acchi Nahi Lgti Ghalib,
Main Apne Dukho Me Rhta Hu Nawabo Ki Tarah.


Mirza Ghalib Shayari In Urdu

Mirza Ghalib Shayari In Urdu
Mirza Ghalib Shayari In Urdu

हम ना बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ,
जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा।
Hum Na Badlenge Waqt Ki Raftaar Ke Sath,
Jab Bhi Milenge Andaz Purana Hoga.


दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए,
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।
Dard Jab Dil Me Ho To Dawa Kijiye,
Dil Hi Jab Dard Ho To Kya Kijiye.


मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह ना सोचा के… एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी।
Main Nadaan Tha Jo Wafa Ko Talash Krta Raha Ghlaib,
Yeh Na Socha Ki… Ek Din Apni Saans Bhi Bewafa Ho Jayegi.


तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है॥
Tu Mila Hai To Ye Ehsaas Hua Hai Mujhko,
Ye Meri Umar Mohabbat Ke Liye Thodi Hai.


Mirza Ghalib Hindi Shayari

Mirza Ghalib Hindi Shayari
Mirza Ghalib Hindi Shayari images download

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम ना होते ना सही ज़िक्र तुम्हारा होता॥
Kuch To Tanhai Ki Raato Me Sahara Hota,
Tum Naa Hote Na Sahi Zikra Tumhara Hota.


रहा गर कोई तो क़यामत सलामत,
फिर इक रोज़ मरना है हज़रत सलामत।
Rha Gar Koi To Kyamat Salamat,
Fir Ik Roz Marna Hai Hazrat Salamat.


गा़लिब” बुरा ना मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे,
हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल को ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब‘ ये ख़याल अच्छा है।
Galib” Bura Na Maan Jo Vaij Bura Kahe,
Aisa Bhi Koi Hai Ki Sab Achchha Kahe Jise,
Hamko Maalum Hai Jannat Ki Hakikat Lekin,
Dil Ko Khush Rkhne Ko “Galib” Ye Khayal Achchha Hai.


ना था कुछ तो ख़ुदा था, कुछ ना होता तो ख़ुदा होता,
डुबोया मुझको होने ने, ना होता मैं तो क्या होता।
Na Tha Kuchh To Khuda Tha, Kuchh Na Hota To Khuda Hota,
Duboya Mujh Ko Hone Ne Na Hota Main To Kya Hota.


Ghalib Ki Shayari In Hindi Fonts

Ghalib Ki Shayari In Hindi Fonts
Ghalib Ki Shayari In Hindi Fonts

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है।
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है।।
Har Ek Baat Pe Kahate Ho Tum Ki Tu Kya Hai,
Tumhi Kaho Ki Ye Andaaz-E-Guftagu Kya Hai.


रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।
Rango Me Daudate Firane Ke Ham Nahi Kayal,
Jab Ankh Hi Se N Tapaka To Fir Lahu Kya Hai.


फ़िक्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूँ,
मैं कहाँ और ये बवाल कहाँ॥
Fikra-Ae Duniya Me Sir Khapata Hu
Main Kaha Aur Ye Bawal Kaha.


वो जो काँटों का राज़दार नहीं,
फ़स्ल-ए-गुल का भी पास-दार नहीं॥
Wo Jo Katon Ka Raazdar Nahi,
Fasl-Ae-Gul Ka Bhi Paasdar Nahi.


Mirza Ghalib Urdu Shayari

Mirza Ghalib Urdu Shayari
Mirza Ghalib Urdu Shayari photo download

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है
मैं वह कतरा हूँ समंदर मेरे घर आता है!!
Khud Ko Manwane Ka Mujhko Bhi Hunar Aata Hai,
Main Wah Katra Hu Samandar Mere Ghar Aata Hai.


बिजली इक कौंध गयी आँखों के आगे तो क्या,
बात करते कि मैं लब तश्न-ए-तक़रीर भी था।
Bijli Ik Kaundh Gyi Aankhon Kea Age To Kya,
Baat Karte Ki Main Lab Tashr-E-Takreer Bhi Tha.


क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ।
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन॥
Karz Ki Peete The May, Lekin Samjhate The Ki Haan,
Rang Lavegi Hamari Faka-Masti Ek Din.


Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi

Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi
Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है।।
Chipak Raha Hai Badan Par Lahu Se Pairahan,
Hamari Jeb Ko Ab Hajat-E-Rafu Kya Hai.


हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब‘ मर गया पर याद आता है।
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता।।
Huyi Muddat Ki “Galib” Mar Gaya Par Yaad Aata Hai,
Wo Har Ek Baat Pe Kahata Ki Yun Hota To Kya Hota.


शोले में ये करिश्माआ न बर्क़ में ये अदा
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंदख़ू क्या है।।
Na Shole Me Ye Karishma Na Barq Me Ye Ada,
Koi Batao Ki Wo Shokhe-Tandukhu Kya Hai.


लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में ,
और हम थक गए मुस्कुराते मुस्कुराते
Log Khte Hai Dard Hai Mere Dil Me,
Aur Hum Thak Gaye Muskurate Muskurate.


Ghalib Shayari In Hindi

Ghalib Shayari In Hindi
Ghalib Shayari In Hindi with hd photo to download

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में।
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते।।
Kitna Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Me,
Punchh Un Parindo Se Jinake Ghar Nahi Hote.


लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब
हम तुम को याद करते है सीधी सी बात है।
Lafzo Ki Tarteeb Mujhe Bandhni Nahi Aati “Ghalib
Hum Tumko Yaad Krte Hai Sidhi Si Baat Hai.


पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार।
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है।।
Piyun Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lu Do Char,
Ye Shisha-O-Kahad-O-Kuza-O-Subu Kya Hain.


है और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे।
कहते है कि ‘ग़ालिब‘ का है अंदाज़-ए-बयाँ और।।
Hai Aur Bhi Duniya Me Sukun-Var Bahut Achchhe,
Kahate Hai Ki “Galib” Ka Hain Andaaz-E-Bayan Aur.


Ghalib Shayari Two Lines 

Ghalib Shayari Two Lines
Ghalib Shayari Two Lines

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है।
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।।
Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya Hain?
Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai.


काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब‘।
शर्म तुम को मगर नहीं आती।।
Kaba Kis Muh Se Jaoge “Galib“,
Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati


नज़र लगे ना कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को।
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते है।।
Nazar Lage Na Kahi Usake Dast-O-Baju Ko,
Ye Log Kyun Mere Zakhme Jigar Dekhate Hai.


वाइज़!! तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिलाके देख।
नहीं तो दो घूंट पी और मस्जिद को हिलता देख।।
Vaiz Teri Duwaon Me Asar Ho To Masjid Ko Hilake Dekh,
Nahi To Do Ghut Pi Aur Masjid Ko Hilata Dekh.


कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को।
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।।
Koi Mere Dil Se Puchhe Tere Teer-E-Neem-Kash Ko,
Ye Khalish Kaha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota


Shayari By Ghalib

Shayari By Ghalib
Shayari By Ghalib

रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब‘।
कहते है अगले ज़माने में कोई ‘मीर‘ भी था।।
Rekhte Ke Tumhi Ustaad Nahi Ho “Galib“,
Kahate Hai Agale Zamaane Me Koi Meer Bhi Tha


रही ना ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी।
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है।।
Rahi Na Takat-E-Guftaar Aur Agar Ho Bhi,
To Kis Ummid Pe Kahiye Ke Aarzoo Kya Hai.


तेरे ज़वाहिरे तर्फ़े कुल को क्या देखें।
हम औजे तअले लाल-ओ-गुहर को देखते है।।
Tere Zawahire Tarfe Kal Ko Kya Dekh,
Ham Auze Tale Laal-O-Guhar Ko Dekhate Hai.


Mirza Ghalib 2 Line Shayari

Mirza Ghalib 2 Line Shayari
Mirza Ghalib 2 Line Shayari

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना।
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।।
Tere Wade Par Jiye Ham, To Yah Jaan, Jhuth Jana,
Ki Khushi Se Mar N Jate, Agar Etbaar Hota.


हुआ जब गम से यूँ बेहिश तो गम क्या सर के कटने का।
ना होता गर जुदा तन से तो जहानु पर धरा होता।।
Hua Jab Gham Se Yun Behish To Gham Kya Sar Ke Katane Ka,
Na Hota Gar Juda Tan Se To Jahanu Par Dhara Hota.


बना है शह का मुसाहिब, फिरे है इतराता
वगर्ना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है।।
Bana Hai Shah Ka Musahib Fire Hai Itrana,
Vagana Shahar Me “Galib” Ki Aabru Kya Hai


कहाँ मयख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब‘ और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते है कल वो जाता था कि हम निकले।।
Kaha MayKhane Ka Darwaza “Galib” Aur Kaha Vayiz,
Par Itana Janate Hain Kal Wo Jata Tha Ki Ham Nikale.


Shayari Of Ghalib

Shayari Of Ghalib in hindi
Shayari Of Ghalib in hindi

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज।
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं।।
Ranj Se Khugar Hua Insaan To Mit Jata Hain Ranj,
Mushkile Mujh Par Padi Itani Ki Aasaan Ho Gayi.


तूने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब
तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है!
Tune Kasam May-Kashee Kee Khaee Hai ‘Gaalib
Teri Kasam Ka Kuchh Etibaar Nahi Hai!


तुम अपने शिकवे की बातें, ना खोद खोद के पूछो,
हज़र करो मिरे दिल से, कि उस में आग दबी है।
Tum Apane Shikave Kee Baatein, Na Khod Khod Ke Poochho,
Hazar Karo Mire Dil Se, Ki Us Mein Aag Dabee Hai


Famous Hindi Shayari Of Mirza Ghalib

Famous Hindi Shayari Of Mirza Ghalib
Famous Hindi Shayari Of Mirza Ghalib

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए है लेकिन
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले।।
Nikalana Khuld Se Adam Ka Sunate Aaye Hai Lekin,
Bahut Be-Aabaru Ho Kar Kire Kuche Se Ham Nikale.


वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़।
सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है।।
Wo Chiz Jisake Liye Hamako Ho Bahisht Azez,
Siwaye Bada-E-Gulfaam-E-Mushkabu Kya Hai.


मगर लिखवाए कोई उसको खत, तो हम से लिखवाए,
हुई सुबह और घर से कान पर रख कर कलम निकले।
Magar Likhavae Koi Usko Khat, To Hum Se Likhavae
Hui Subha Aur Ghar Se Kaan Par Rakh Kar Kalam Nikale


बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे।
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे।।
Bagicha-E-Atafaal Hai Diniya Mire Aage,
Hota Hai Shab-O-Roz Tamasha Mire Aage.


Mirza Ghalib 2 Line Shayari
Mirza Ghalib 2 Line Shayari

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले!
Mohabbat Mein Nahi Fark Jeene Aur Marane Ka,
Usee Ko Dekhakar Jeete Hai Jis ‘Kaafir’ Pe Dam Nikale!


ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते है।
कभी सबा को, कभी नामाबर को देखते है।।
Ye Ham Jo Hizr Me Diwar-O-Dar Ko Dekhate Hai,
Kabhi Saba Ko, Kabhi Namabar Ko Dekhate Hai.


मरते है आरज़ू में मरने की, मौत आती है पर नही आती,
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’, शर्म तुमको मगर नही आती ।
Marte Hai Aarazoo Mein Marane Kee, Maut Aati Hai Par Nahi Aati,
Kaaba Kis Munh Se Jaoge ‘Gaalib’, Sharm Tumako Magar Nahi Aati.


Ghalib Shayari In Hindi Language

Ghalib Shayari In Hindi Language
Ghalib Shayari In Hindi Language

ये रश्क है कि वो होता है हमसुख़न हमसे।
वरना ख़ौफ़-ए-बदामोज़ी-ए-अदू क्या है।।
Ye Rashk Ki Wo Hota Hai Hamsukhan Hamse,
Warana Khuf-E-Bdamoji-E-Adu Kya Hai


ये ना थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता।
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता।।
Ye Na Thi Hamari Kismat Ki Visaal-E-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rahate Yahi Intzaar Hota.


बना कर फकीरों का हम भेस ग़ालिब
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते है
Bana Kar Fakiron Ka Ham Bhes Gaalib
Tamaasha-E-Ahal-E-Karam Dekhate Hai


आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था
Aaina Dekh Apna Sa Muh Le Ke Rh Gaye,
Sahab Ko Dil Naa Dene Pe Kitna Guroor Tha.


बेवजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है
Bewajah Nahi Rota Ishq Me Koi Ghalib,
Jise Khud Se Badh Kar Chaho Wo Rulata Zaroor Hai.


Best Shayari Of Mirza Ghalib In Hindi

Best Shayari Of Mirza Ghalib In Hindi
Best Shayari Of Mirza Ghalib In Hindi

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।
Dil Se Teri Nigah Jigar Tak Uattar Gayi,
Dono Ko Ek Adaa Me Rajamand Kar Gayi.


दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ।
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ।।
Dard Minnat Kash-E-Dawa Na Hua,
Main Na Achchha Huaa Na Bura Hua.


मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का।
उसी को देख कर जीते है जिस काफ़िर पे दम निकले।।
Mohabbat Me Nahi Hai Farq Jeene Aur Marane Ka,
Usi Ko Dekh Kar Jeete Hai Jis Kafir Pe Dam Nikale


हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले।
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।।
Hazaron Khwahishe Esi Ki Har Khwahish Pe Dam Nikale,
Bahut Nikale Mire Armaan Lekin Fir Bhi Kam Nikale.


Our Famous Posts: –

  1. जन्मदिन शायरी
  2. मिस यू शायरी
  3. गुड मॉर्निंग शायरी
  4. लव शायरी
  5. रोमांटिक शायरी